नवाबों के शहर में मौजूद इस पैलेस को किसी समय हैदराबाद का दिल भी कहा जाता था इन राज्यों में आपको प्राचीन और मेडिकल में निर्मित बेहतरीन पांच सितारा से लेकर सात सितारा पैलेस देखने को आसानी से मिल जाएंगे आज हम आपको चारमीनार नहीं बल्कि सबसे पहले चौमहल्ला पैलेस जाना पसंद करेंगे

इस अनोखा और खूबसूरत पैलेस का निर्माण वर्ष 1857 और 1895 के बीच हैदराबाद के पांचवे निजाम यानी अफजल -उद -ढोला और असफ जहां वी के शासनकाल के दौरान हुआ था इस पैलेस का निर्माण 1750 में ही शुरू किया गया था लेकिन कुछ कारणों की वजह नहीं हो सका और फिर इसे 1857 और 1895 के बीच में बनवाया गया

उस समय इसे मुलत लगभग 45 एकड़ पर बनाया गया था लेकिन धीरे -धीरे ये पैलेस बारह एकड़ क्षेत्र में ही रह गया है इस पैलेस को दो भागो में बंटा गया है जिसे एक भाग को उत्तरी आंगन और दूसरे भाग को दक्षिण आंगन के रूप में जाना जाता है

खिलाफत मुबारक भवन' को चौमहल्ला पैलेस का दिल कहा जाता है निजाम की गद्दी यहीं हुआ करती थी इस जगह को हैदराबाद के लोग काफी सम्मान करते है मार्बल द्वारा निर्माण इस भवन के लिए गद्दी तख़्त-ए-निशान का भी निर्माण किया गया है


You may also like

Health Care : सुबह खाली पेट पानी पीने से इतनी बीमारियों से मिलता है एक साथ छुटकारा
Travel Tips : इस पैलेस में हुई है कई सुपरहिट बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग ,जानिए इससे जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में