भारतीय क्रिकेट तो अभी अपने चरम पर है लेकिन कुछ समय पहले तक भारतीय बोर्ड का हाल कुछ खराब चल रहा था।बीसीसीआई को प्रशासनिक लोग संभाल रहे थे,जो न तो टीम से कुछ सवाल कर सकते थे और न ही कोई रिव्यु मीटिंग। अब बीसीसीआई के हेड सौरव गांगुली बन चुके है और अब लोग आशा कर रहे है कि बीसीसीआई वापस अपनी पुरानी रंगों में लौटेगा।

इन सब से एक यक्ति को बड़ा नुकसान पहुंचा होगा वो है टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री, क्योकि रवि की गांगुली से बिल्कुल नही बनती।अभी गांगुली ने लोढ़ा कमिटी की सिफारिशों के हवाला देते हुए 23 को होने वाली सिलेक्शन मीटिंग से रवि शास्त्री को बाहर कर दिया है।

रवि और गांगुली के बीच अनबन 2016 से है,जब गांगुली,सचिन और laxman के साथ कोच सेलेक्टिंग कमीटी के सदस्य थे,और उन्होने शास्त्री के ऊपर कुंबले को कोच चुना था।तब शास्त्री ने गांगुली पर आरोप लगाया था कि गांगुली तो सिलेक्शन टाइम पर उपस्थित भी नही हुए,तो उनको कोई हक नही है कोच चुनने का।फिर गांगुली ने भी शास्त्री पर पलटवार करते हुए कहा कि शास्त्री भी खुद वीडियो कॉल के जरिये अपने interview दिए तो उनको भी कोच नही बनाना चाहिए।

अब देखना यह है कि गांगुली और शास्त्री के बीच ये अनबन कितनी दूर तक जाती है और किसको इसका नुकसान पहुचता है,हालांकि टीम इंडिया को फायदा ही होगा क्योकि अब दादा bcci के दादा है।

आपकी क्या राय है इस टॉपिक पर,नीचे comment box में टाइप करे,और इस आर्टिकल को लाइक,शेयर,और फॉलो करना न भूले।

loading...

  • TAGS
loading...

You may also like

भारतीय टीम के इन फेमस खिलाड़ियों ने गुरु की दी हुई सीख से क्रिकेट जगत में बनाया खास मुकाम...

  कहीं कुर्ती पहनने पर तो कहीं बुर्का ओढ़ने पर कॉलेज ने लगाया प्रतिबंध