पुणे के श्री शिव छत्रपति खेल परिसर कोर्ट पर खेले गए प्रो कबड्डी लीग में दबंग दिल्ली ने गुजरात फ़ॉर्च्यून जायंट्स को 34-30 से शिकस्त दी. दिल्ली की इस जीत के हीरो रहे नवीन कुमार. इस सत्र में नवीन गजब के फार्म में हैं. नवीन ने लीग का पंद्रह मैच ही खेला है लेकिन अब तक वे चौदह बार सुपर-टेन लगा चुके हैं. गुजरात के खिलाफ भी उन्होंने सुपर टेन लगाया जो उनका लगातार तेरहवां सुपर-10 (12 रेड अंक) था. उनका अच्छा साथ निभाया विजय ने जिन्होंने पांच रेड अंक बनाए और कप्तान जोगिंदर नरवाल ने भी तीन टैकल अंक हासिल किए. गुजरात के लिए रोहित गुलिया ने बेहतरीन कोशिश की और सुपर-टेन लगाते हुए तेरह रेड अंक बनाए लेकिन टीम को जीत नहीं दिला पाए.

पहले हाफ़ में ही दबंग दिल्ली ने अपनी दबंगई दिखानी शुरू कर दी थी. दिल्ली की तरफ़ से इस मैच में डिफ़ेंस ने भी कमाल का प्रदर्शन किया. रविंदर पहल रंग में थे जिनका कप्तान जोगिंदर नरवाल भी बख़ूबी साथ दि., नवीन कुमार ने शानदार रेडिंग से गुजरात को सातवें मिनट पर ही आल आउट कर डिला. नवीन ने इसी के साथ प्रो कबड्डी इतिहास में साढ़े तीन सौ रेड अंक पूरा किया. हाफ टाइम से पहले नवीन ने गुजरात को दूसरी बार ऑलआउट के क़रीब ला दिया था. हाफ़ टाइम तक दिल्ली 20-9 से आगे थी.

दूसरे हाफ़ की शुरुआत में दिल्ली ने तुरंत ही गुजरात को मैच में दोबारा ऑलआउट करते बड़ी बढ़त की तरफ़ ले गए. लेकिन गुजरात के रेडर रोहित गुलिया ने कमाल की रेड करते हुए टीम की मैच में वापसी कराई. गुजरात ने दिल्ली को मैच में पहली बार ऑलआउट करते हुए स्कोर को 24-19 कर दिया था. रोहित अपनी शानदार फ़ॉर्म को आगे बढ़ाते हुए अपना सुपर-10 पूरा किया और आख़िरी आठ मिनट में गुजरात अब सिर्फ़ तीन अंक पीछे थी. दूसरा हाफ़ पूरी तरह से गुजरात के नाम रहा. दूसरे हाफ में नवीन थोड़ा ढीले पड़े. आख़िरी छह मिनट में गुजरात सिर्फ़ दो अंक पीछे थी यानी मैच किसी के पक्ष में भी जा सकता था. लेकिन अंतिम क्षणों में नवीन ने अपने खेल को उंचाई दी और मैच दिल्ली की झोली में डाल दया.

प्रो कबड्डी लीग में मेंदिल्ली की गुजरात पर आठ मैचों में दूसरी जीत रही. इस सीजन में दिल्ली ने पहली बार गुजरात को हराया है. दिल्ली 64 अंकों के साथ पहले स्थान पर बरकरार है. गुजरात की टीम अंक तालिका में अब आठवें नंबर पर है.

loading...

  • TAGS
loading...

You may also like


  बिहार में शराबबंदी कानून तो लागू है, शराब बंद नहीं है

  शतक बनाने के लिए इन 3 दिग्गज बल्लेबाजों ने कभी नहीं खेली 100 गेंदें, नंबर-1 है भारत की शान