नया साल आने में लगभग एक महीना बाकी है। ज्योतिष और आस्था के दृष्टिकोण से, नए साल 2020 में 20 ऐसे संकल्प लें, ताकि आपकी खुशी पूरे साल बनी रहे। आगे देखिए साल 2020 के लिए 20 संकल्प क्या होने चाहिए

पहला संकल्प 2020- अगर आपकी आदत सुबह देर से उठने की है, तो नए साल 2020 में ब्रह्म मुहूर्त में उठने का संकल्प करें। शास्त्रों में सुबह उठना सबसे अच्छा बताया गया है। ब्रह्म मुहूर्त का समय सूर्योदय से पहले रात के 3 से 6 बजे तक है। इस समय, सूर्य पृथ्वी के उत्तर-पूर्वी भाग में है। चिंतन और अध्ययन के लिए यह समय बेहतर है।



दूसरा संकल्प 2020 - स्नान और दैनिक कार्य के तुरंत बाद उठो, भगवान की पूजा करो, स्मरण और मंत्रों का जाप करो।


तीसरा संकल्प 2020 - आपका सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए। ज्योतिष में, सूर्य सम्मान और प्रसिद्धि का कारक है।

चौथा संकल्प 2020- पूजा घर में हमेशा पानी से भरा एक पात्र रखें।

पांचवां संकल्प 2020- पूजा करने के बाद, अपनी ज्ञात और अनजाने में हुई गलती के लिए भगवान से क्षमा याचना करें।

छठा संकल्प २०२०- पूजा घर में जलने वाली पवित्र अग्नि ज्वाला को कभी न बुझाएं।

सातवां संकल्प 2020- पूजा घर में पूजा करने के बाद पूजा घर का दरवाजा या पर्दा बंद करना न भूलें।

आठवाँ रिज़ॉल्यूशन 2020- जब भी सुबह घर पर खाना बने, तो गाय के लिए पहली रोटी ज़रूर लें।


नवम संकल्प 2020- नव वर्ष पर घर के मुख्य द्वार पर स्वस्तिक का चिन्ह अवश्य रखना चाहिए।

दसवां प्रस्ताव 2020- घर से निकले किसी गरीब व्यक्ति और संत को खाली हाथ न लौटाएं।

ग्यारहवां संकल्प 2020- पशु- दिन के समय पक्षियों और जानवरों को कुछ देने की आदत डालें।

बारहवां संकल्प 2020- घर के किसी भी कोने में मकड़ी के जाले कभी न लगने दें।

तेरहवें संकल्प 2020 - शाम को कभी न सोएं।

चौदहवाँ रिज़ॉल्यूशन 2020- कभी भी बिस्तर में भोजन न करें।

पंद्रहवां संकल्प 2020- नए साल के पहले दिन एक असहाय या अनाथ की मदद का संकल्प लें।

सोलहवाँ संकल्प 2020- नए साल की शुरुआत में, एक पौधा लगाओ और पूरे साल उसकी देखभाल करो।

सत्रहवां संकल्प 2020- एक वर्ष में किसी भी एक मंत्र का जाप करने का संकल्प लें।

अठारहवां संकल्प 2020- घर में झाड़ू कभी न रखें।

उन्नीसवां संकल्प 2020 - घर में कभी भी इधर-उधर जूते-चप्पल न रखें। इस संकल्प के साथ, आपकी प्रगति पूरे वर्ष जारी रहेगी।

बीसवाँ संकल्प 2020- घर में बड़ों और महिलाओं के अपमान को न भूलने का संकल्प लें।

loading...

loading...

You may also like


  जानिए महाभारत के उस योद्धा के बारे में जिस ने भीम को 3 बार जीवनदान दिया था
किराये के मकान में रहता था पति, दामाद के साथ पहुंची पत्नी और जमकर पिटा, थाने जाकर बोला- 'घर नहीं जाऊँगा, पत्नी मारती...