लाईफस्टाईल डेस्क:- कई लोगो को खाने पीने का इतना ज्यादा शौक होता है कि वो इसके लिए नए नए शहरों में जाकर वहां का खाना ट्राय करते है। आज हम आपको एक ऐसी जगह बताएगें जहां का नाम सुनते ही आपके मन में पहले भगवान का नाम आएगा फिर खाने का और फिर घूमने का। शाम की आरती, मंदिरों और घाटियों के साथ बनारस एक ऐसी जगह है जहां ये सभी चीजें आसानी से मील जाती है। ये चीजें लोगों को यहां आने के लिए मजबूर करती है। वास्तव में यहां पर स्वादिष्ट भोजन शहर को विशेष बनाता है। जहां आजकल लोग अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए फलों, रस, सलाद आदि को पंसद करते हैं, जबकि बनारस में लोग नाश्ते में भोजन की अलग अलग प्रकार की चीजों को पंसद करते हैं। शायद यही कारण है कि सडक़ों पर, गरम मसाला और खाने की खुशबू सुबह से ही शुरु हो जाती है जो कि रात तक बनी रहती है।

कचौरी-सब्जी


नाश्ते में, यहां के लोगों को रोटी, कॉर्नफ्लेक्स या पोहा पसंद नहीं है वो कचोड़ी में सब्जी मीला कर खाते है। हालांकि, दुकानों में कई प्रकार की चीजें पाई जाती है, लेकिन कचोडी के दो विशेष प्रकार की मांग सबसे अधिक है। एक बड़ी कचोडी, जिसमें उरद दाल का मसाला भरा होता है और छोटी में पिस्ता आलू भरें होते हैं। उनमें से दोनों आलू-टमाटर और हरी घी के साथ परोसे जाते हैं।

माखन- मलाई

बनारस में मक्खन-क्रीम का स्वाद केवल सर्दी में मिलता है। कोफ्ता में केसर, इलायची और पिस्ता-बादाम के साथ मक्खन-क्रीम परोसा जाता है। जिस स्वाद को आप पंसद करेगें।

चुरा मातर

यहां पोहा सरसों के तेल में नहीं बनता है, लेकिन स्वदेशी घी में बना है जो इसके स्वाद को दोगुना करता है। पोहा की खुशी जो हरी मटर, मूंगफली, अनार और क्रीम के साथ बनाई जाती है।

थंडाई और लस्सी

बनारसी लस्सी और थांडाई का स्वाद कहीं और नहीं चलेगा। सुबह से दुकानों तक लस्सी की मांग है। कुलहाद की स्वादिष्ट सुगंध, लस्सी का स्वाद रबड़ी द्वारा बढ़ाया जाता है और इसके ऊपर चढ़ाया जाता है।

दही-चटनी गोलगप्पे

बनारस की सडक़ों में, शाम को लोग दही-चटनी गोलगप्पा का स्वाद लेने के लिए बाहर आते हैं। करारे गोलगप्पे के बीच गौर्ड, जार-चिमनी चटनी और उपर से गार्निशिंग बनारस कि याद दिला देते है।

बाटी चोखा

हालांकि यह बिहार का विशेष पकवान है, लेकिन यह यूपी में भी प्रसिद्ध है। घी से भरी हुई बाटी, जो सत्तू से भरी होती है, को आलू-बैंगन चोखा के साथ परोसा जाता है।

You may also like

अगर सेहत संबंधी है ये प्रॉब्लम तो जरूर बचे बादाम खाने से!
सास-बहू  के क्लेश को दूर करने के लिए अपनाए ये वास्तु टिप्स