इंटरनेट डेस्क : हमारी हिंदू संस्कृति में पूजा पाठ का विशेष महत्व है पूजा पाठ के लिए आपने हर व्यक्ति को मंदिर जाते हुए देखा गया जहां वह पूरें श्रध्दाभाव से भगवान की अराधना करता है भगवान को अर्पण करने के लिए भक्त कई चीजों का अर्पण उनके समक्ष करता है उन्ही में से एक होते है फूल, जिसें भक्त भगवान को अर्पित करता है फूलों से मंदिर के पुजारी भगवान का खूबसूत श्रृंगार भी करते है

अक्सर मंदिरों में देखा जाता है की पुजारी भगवान के चढ़े हुए फूल प्रसाद के साथ भक्तों को दें देते है जिन्हे भक्त भगवान का आशीर्वाद समझकर घर लें जाते है लेकिन जब ये फूल सूख जाते हैं तो सबसे ज्यादा परेशानी इस बात की होती है कि अब अन फूलों का क्या किया जाए।

कई भक्त अशुभ होने के डर से इन फूलों को फेकते नही है लेकिन शायद आपको पता हो हमारे शास्त्रों में इस बात का भी एक विशेष उपाय बताया गया है...

जानिए इस पवित्र धागे का महत्व जो सेहत में भी करता है फायदा

Old Post Image

अगर आपको मंदिर से भगवान पर चढ़े हुए फूल या हार दिया जाता है तो इसे पहले घर की उस अलमारी में रखना चाहिए जिसमें आप अपने गहने और पैसे रखते हैं।

और यदि आपको प्रसाद में फूल मिला कर दिया गया है तो उसे तिजोरी में रख देना चाहिए। लेकिन अगर फूल अलमारी में रहकर सूख गया है तो इस बात का ध्यान रखें की फूल टूटकर बिखेरे नही। इसे किसी छोटी थैली, कपड़े या कागज में बांध कर रख दें।

Old Post Image

अगर आपको किसी यात्रा के दौरान पूल या हार मिले है तो यात्रा के दौरान आपको इन फूलों को बेहद संभालकर रखना होगा आप इन फूलों को सूंघकर किसी पेड़ शुभ पेड़ के नीचें सुघकर रख देंवे या फिर की नदी सरोवर में डाल देंवे ऐसा करना बेहद लाभकारी होगा। फूलों को सूघनें से आपके अंदर इन फूलों की सकारात्मक उर्जा चली जाती है मंदिर से मिलें इन फूलों का उपयोग आप इस तरह से कर सकते है जो आपके लिए बेहद लाभकारी है।

इस वजह से इस सिर ढकने की परम्परा निभाती है स्त्रियां

loading...

loading...

You may also like


  शव ले जाते समय क्यों कहते हैं राम नाम सत्य है

  जिओ पर भारी पड़ा वोडाफोन का नया ऑफर, जानिए कीमत