समुद्र तट पर स्थित होने के चलते केरल खूबसूरत समुद्री तट और बेहतरीन पर्यटक स्थलों के चलते पुरे भारत में एक प्रसिद्ध स्थान है यहां लाखो सैलानी घूमने के लिए आते है ये सैलानी घूमने के साथ -साथ केरल में मनाए जाने वाले सांस्कृतिक और पारम्परिक उत्सव का भी ाँद उठाते है आज हम आपको केरल में मनाए जाने वालों उत्सव के बारे में बता रहे है

केरल के सबसे प्रमुख त्यौहार में से एक त्रिचूर पुरम त्यौहार है यह त्यौहार मुख्य रूप से वडक्कुनाथन मंदिर में मनाया जाता है जहां भगवान शिव की पूजा की जाती है इस खास मौके पर सुसज्जित हाथियों की परेड भी होती है

कोडुंगल्लूर भरणी उत्साह केरल में 3 दिन तक चलता है इन तीन दिनों में कई जगह मेले आदि का आयोजन भी होता है इस खास मौके पर केरल के शहर त्रिशूर में मौजूद मंदिरो में द्वारिका नामक एक दांव पर भद्रकाली की जीत का जश्न के रूप में मनाया जाता है

ओणम त्यौहार के बाद दूसरा सबसे प्रमुख त्यौहार विषु उत्सव है इस दिन पुरुष से लेकर महिलाएं तक पारंपरिक वस्त्र धारण करते है और एक -दूसरे को गले लगाकर विषु की बधाई देते है इस दिन घर के सामने रंगोली भी बनाई जाती है


You may also like

Health Care : नींबू के बीज से होते है इतने फायदे,स्किन को रखता है खूबसूरत
Health  Care : सुबह-सुबह खाली पेट पिए किशमिश के पानी फिर देखे करामाती फायदे