इंटरनेट डेस्क : शरीर की थकान को दूर करने के लिए अक्सर हर व्यक्ति चाय पीना पसंद करता है चाय से थकान तो दूर होती है साथ ही सिरदर्द की परेशानी में भी आराम पाया जा सकता है चाय को बनाने के लिए दूध , चीनी और चाय पत्ती जैसी चीजों को इस्तेमाल किया जाता है लेकिन शायद आपको पता हो चाय बनाने में काम आने वाली ये बची हुई चाय पत्ती महिलाओं के इन कामों को आसान बनाती है।

आइए जाने इस बची हुई चायपत्ती के बेमिसाल फायदे जिससे आप अनजान है...

शायद आपको पता हो की चायपत्ती से एक बार चाय बनाने के बाद आप इसे सुखाकर दोबारा काम में ले सकते है इससे आपकी चाय स्वादिष्ट बनेगी लेकिन इस बात का ध्यान रखें की चायपत्ती को धूप में सुखाकर ही दोबारा इस्तेमाल में लेना होगा ।

प्रेगनेंसी समय में इन मुसीबतों को झेलती है ऐसी रेखाओं वाली महिलाएं

Old Post Image

आप चायपत्ती का इस्तेमाल छोले को स्वादिष्ट बनाने में कर सकते है इसके लिए चायपत्ती को पानी में डाल लेंवे और उस पानी को उबाल कर उसकी थोड़ी-सी मात्रा काबुली चने में डाल देवे इससे छोले का रंग आकर्षित दिखेगा और खुशबू व स्वाद भी काफी बढ़ेगा।

चायपत्ती/ टी-बैग को गुनगुने पानी में निचोड़ लेंवे इस पानी का कुल्ला करने से दांत दर्द की परेशानी में आराम मिलेगा ।

इसके इलावा चायपत्ती के उबले हुए पानी से घी या तेल के डिब्बे साफ करने से उन डिब्बों की दुर्गंध दूर होती है वह डिब्बे अच्छे से साफ होते है ।

घर की किचन में अक्सर कई बार मक्खियां खूब भिनभिनाने लगती है जिसे दूर करने के लिए चायपत्ती को धोकर उसे साफ कर लेंवे और उस जगह पर रगड़े चाय ऐसा करना काफी ठीक होगा।

Old Post Image

चाय पत्ती का इस्तेमाल आप लकड़ी के फर्नीचर को चमकदार बनाने के लिए भी कर सकते है बची हुई चायपत्ती को दोबारा से गरम पानी मे उबाल लेवे फिर उसे ठंडा कर इसे एक स्प्रे बॉटल में भरकर फर्नीचर की सफाई करें इससे आपके खोए हुए फर्नीचर की चमक दोबारा से लौटेगी।

शायद आपको पता हो की चायपत्ती में एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं चोट या किसी जख्म पर चायपत्ती का लेप लगाने से खून बहना बंद होगा और जख्म भी जल्द ही भरेगा ।

गणेश चतुर्थी पर करें सुपारी का ये खास उपाय, बदल जाएगी किस्मत

loading...

You may also like


  पहली बार पवनपुत्र ने इन 3 राशियों को दिया है अमीर बनने का वरदान, कहीं आपकी राशि तो नहीं

  19 सितम्बर से 30 सितम्बर तक,राशि अनुसार जानिए क्या लिखा है आपके भाग्य के बारे में: भाग्यफल