ओडिशा के संबलपुर जिले के रहने वाले संदीप खंडेलवाल ने सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट पुणे से एमबीए किया पढ़ाई पूरी होते ही उन्होंने मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करना शुरू क़र दिया इन्होने 8 साल तक कॉर्पोरटे सेक्टर में काम किया संदीप ने 16 लाख रूपये की नौकरी छोड़कर गांव में आकर खेती करना शुरू क़र दिया

नौकरी करते समय संदीप को ऐसा महसूस हो रहा था की वह जो भी क़र रहे है अब अपने लिए क़र रहे है ,दूसरों के लिए वह कुछ भी नहीं क़र रहे है इसी बीच उनके मन में अपने गांव और समुदाय के लिए भी कुछ करने के विचार आया संदीप गांव में कुछ ऐसा करना चाहते थे जिससे लोगों की जिंदगी बेहतर हो सके

साल 2014 में वो अपने गांव लोट आए और आर्गेनिक खेती करना शुरू क़र दिए शुरुआत में संदीप के घरवाले उनके इस फैसले से बिल्कुल खुश नहीं थे संदीप इसके लिए कई जगहों पर जाकर फार्मिंग के लिए ट्रेनिंग लिए लगभग ढाई साल बद उन्होंने धीरे -धीरे अपनी खेती बढ़ने लगे संदीप सात से आठ एकड़ में जैविक तरीको से धन उगते है और इसके साथ ही वो सब्जी और फूल की भी खेती क़र रहे है वही दो एकड़ में मिर्ची की फसल से लगभग 500 क्विंटल हरी मिर्च उपजा लेते है

खेती और लोगों को रोजगार देने के साथ ही संदीप ने अपने गांव में बच्चों की शिक्षा के लिए Eduventive नाम से एक पहल शुरू की है संदीप खंडेलवाल की यह कहानी काफो प्रेरणादायक है


You may also like

Beauty  Care :त्वचा की रंगत निखारने और ग्लोइंग स्किन पाने के लिए इलायची का इस तरह करे इस्तेमाल
Health Tips - तनाव को दूर करने के लिए अपनाये ये आसान से टिप्स