भाद्रपद महीने की अष्टमी तिथि को जन्माष्टमी का त्यौहार मनाया जाता है

इस बार जन्माष्टमी का त्यौहार 11 या 12 अगस्त को लेकर दुविधा की स्थिति बनी हुई है लेकिन ज्योतिष के अनुसार 12 अगस्त की जन्माष्टमी को ही श्रेष्ठ माना गया है

जन्माष्टमी के दिन पूजा का समय 12 अगस्त को रात 12:05 से लेकर 12:47 तक रहेगा

भगवान को मिष्ठान और उनकी प्रिय चीज़ो का भोग लगाने के बाद गंगा जल अर्पित करें

loading...

You may also like

गुडगाँव समेत हरियाणा के इन क्षेत्रों में फिर से लगाया जा सकता है लॉकडाउन, जान लें हर डिटेल
COVID टाइम्स के दौरान आपको अपनी नई कार को कैसे वित्त देना चाहिए?