इंटरनेट डेस्क : हमारे हिंदू धर्म में विशेष तरह की पूजा-पाठ में जनेऊ पहनने का एक विशेष महत्व है। जनेऊ एक पवित्र सफेद धागा होता है जिसे ‘उपनयन संस्कार’ के समय धारण किया जाता है और संस्कृत में इसे ‘यज्ञोपवीत संस्कार’ भी कहा जाता है हिंदू संस्कृति वाले पुरुष जनेऊ को धारण करते है इस धागे को पुरुष बाएं कंधे के ऊपर से लेकर दाएं कंधे की भुजा तक ले जाकर पहनते है।

अगर हिंदू धर्म में जनेऊ पहनने की बात हो तो अविवाहित पुरुष को एक धागे वाला जनेऊ जो विवाहित हो उसे दो धागे वाला जनेऊ पहनना होता है और अगर विवाहित व्यक्ति की संतान है तो उसे तीन धागों वाला जनेऊ पहनना होता है । जनेऊ पहनने की परम्परा सदियों से चली आ रही है।

भारतीय संस्कृति में ऐसा माना जाता है कि जब तक बच्चा तेहरा वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद जनेऊ धारण नहीं करता तब तक वह किसी यज्ञ में आहुति डालने में असमर्थ हैं और जनेऊ परम्परा घर में पंडित को बुलाकर, यज्ञ करने पर ही की जाती है।

जानिए हर धर्म के अनुसार रंगों का महत्व

आइए जाने जनेऊ पहनने के इस विशेष महत्व के बारे में जिससे आप अनजान है...

जनेऊ धार्मिक नजरिए के साथ- साथ वैज्ञानिक रूप से भी सेहत के लिए फायदेमंद है। जो लोग जनेऊ धारण करते है उन्हे समाज से जुड़ें हर नियम का पालन करना होता है।

मल विसर्जन के पश्चात् जब तक व्यक्ति हाथ पैर न धो लें तब तक वह जनेऊ उतार नहीं सकता, अच्छी तरह से अपने आप की सफाई करके ही वह जनेऊ को कान से उतार सकता है।अगर वह इस विशेष बात का ध्यान रखता है तो उसे ये सफाई दन्त, पेट, मुंह, जीवाणुओं के रोगों से मुक्ति दिलाती है।

Old Post Image

अगर किसी व्यक्ति को बुरें सपने आते है तो उन्हे सोते समय जनेऊ को कान पर लपेटकर सोना चाहिए ऐसा करने से उन्हे बुरें सपने नही आते है।

जनेऊ धारण करने से व्यक्ति कभी किसी गलत काम में नही पड़ता है और उसका दिमाग तेज गति से काम करता है।

जनेऊ धारण करने वाला व्यक्ति हदय रोग और ब्लडप्रेशर की समास्या से खुद को बचा सकता है। जब जनेऊ को कान पर बांधा जाता है तब कानों की नसों पर दबाव पड़ता है और जिससे कब्ज और आंतो से से जुड़ी परेशानियां दूर होती है।

अगर आप जनेऊ को कान पर लपेटते है तो इससे दिमाग की नसें एक्टिव रहती है जिसका सीधा संबंध शक्ति से होता है इससे आपकी उम्र बढ़ती है। इस पवित्र धागे का इस्तेमाल करना आपकी सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है।

अगर आप भी करते है घर में सोमवार के दिन शिवलिंग की पूजा, तो रखें इन बातों का ख्याल

loading...

You may also like

हाथों की रेखाओं में मौजूद ये विशेष निशान होता है वैवाहिक जीवन के लिए अशुभ
सेहत में फायदा करते है पौष्टिक फलों व सब्जियों के बीज