इंटरनेट डेस्क : चावल का इस्तेमाल जहां खाने में किया जाता है तो वही पूजा-पाठ में भी चावल का विशेष महत्व है बिना चावल के हर पूजा अधूरी होती है । चावल को अक्षत भी कहा जाता है और अक्षत का अर्थ होता है जो टूटा न हो। शास्त्रों में बताया गया है की पूजा-पाठ में टूटें-फूटें चावल को कभी नही रखना चाहिए ऐसा करना अशुभ होता जब भी खास पूजा में रोली से किसी व्यक्ति के माथे पर टीका किया जाता है चावल को लगाया जाता है।

आइए जानें चावल से जुड़ी ये विशेष बातें जिससे आप अनजान है...

पूजा कर्म में देवी-देवता को चावल चढ़ाए जाते हैं, साथ ही किसी व्यक्ति को जब तिलक लगाया जाता है, तब भी रोली का उपयोग कर चावल लगाया जाता है ऐसा करना बेहद शुभ होता है।

जीवन की हर समस्या से रहना चाहते है दूर ,तो रोजाना करें पीपल पेड़ की पूजा

Old Post Image

पूजा में चावल चढ़ाने का महत्व है की बिना किसी पूजा के आपकी हर तरह की पूजा सफल हो इसी प्रार्थना के चलते भगवान को चावल चढ़ाए जाते है।

चावल को अन्न में श्रेष्ठ माना गया है। इसका सफेद रंग शांति का प्रतीक है। चावल चढ़ाकर भगवान से प्रार्थना की जाती है कि हमारे सभी कार्य रुप से सफल हो और हमारे जीवन में शांति बनी रही।

Old Post Image

पूजा में भी जो भी चावल लेंवे वह कही से टूटें फूटे ना हो साफ सुथरे और सबूत चावल का इस्तेमाल आप पूजा में करेंगे तो आपके जीवन के लिए लाभकारी होगा।

इन पांच चीजों के बिना अधूरा है पंचामृत भोग , जिसके सेवन से घर में बनी रहती है सुख शांति

loading...

You may also like

गर्मियों में ककड़ी खाने के फायदें जानकर रह जाएंगे हैरान
इस वजह से पहना करते है ऋषि-मुनि खड़ाऊ चप्पल, आप भी जानें इस चप्पल को पहनने के अनगिनत फायदे