वजन कम करने की चाहत में कई लोग अपने दिन की शुरुआत गुनगुने पानी और शहद से करते हैं यह शरीर को डिटॉक्स करता है और इससे फैट भी बर्न होता है।

हालांकि आयुर्वेद में यह शरीर के लिए नुकसानदायक बताया गया है शहद को चीनी का हेल्थी ऑप्शन माना जाता है और स्वीटनर है और इसमें कई एंटीओक्सिडेंट ,मिनरल्स और एंजाइम्स होते हैं ज्यादातर लोग इसे दूध या गर्म पानी के साथ मिलाकर पीते हैं लेकिन आयुर्वेद में इसे सेहत के लिए नुकसानदायक माना जाता है।

आयुर्वेद में शहद को किसी भी तरह से गर्म रूप में लेना नुकसानदायक माना जाता है इसे सीधे गर्म करके या किसी गर्म चीज में मिलाना भी हेल्थ के लिए अच्छा नहीं होता है डॉक्टर्स के अनुसार गर्म शहद दरअसल शरीर के लिए टॉक्सिक हो जाता है जो कि आगे चलकर कई बीमारियों को पैदा करता है।

आयुर्वेद के अनुसार गरम शहद धीमा जहर है जिसे शरीर में टॉक्सिटी बढ़ जाती है शरीर में पहुंचने के बाद इसके जो फायदे करने वाले तत्व होते हैं वह जहर में बदल जाते हैं शहद को अगर उसकी नेचुरल स्टेज में लिया जाये तो सेहत के लिए काफी अच्छा है उन लोगों से जो शहद ले जो मक्खियों के सीधे शहद निकालते हैं शहद को ग्रीन टी ,दूध गर्म पानी या किसी भी गर्म चीज के साथ ना ले।


You may also like

Interview Question : गाड़ी की नंबर प्लेट पर A/F का क्या मतलब होता है ?
आखिर दशहरे के दिन जलेबी खाना क्यों जरूरी होता है ? यहां जाने