इस बार जन्मष्टमी का त्यौहार 11 और 12 अगस्त दो दिन मनाया जायेगा पूजा का शुभ मुहूर्त 12 अगस्त को रात 12 बजकर 5 मिनट से लेकर 12 बजकर 47 मिनट तक रहेगा

जन्मष्टमी के दिन राहुकाल दोपहर 12:27 बजे से 02:06 बजे तक रहेगा,जन्माष्मी पर कृतिका नक्षत्र रहेगा और इसके बाद रोहिणी नक्षत्र होगा जो 13 अगस्त तक रहने वाला है

12 अगस्त के दिन जन्माष्टमी मनाना ज्यादा शुभ रहेगा क्यूंकि श्रीकृष्ण की नगरी द्वारिका और मथुरा में भी इस दिन ये त्यौहार मनाया जायेगा

जन्माष्टमी के दिन पंचामृत बनाये,इसके अलावा कान्हा को माखन मिश्री का भोग जरूर लगाए,धनिये की पंजीरी का प्रसाद भी बना सकती है इन भोग में तुलसीदल जरूर रखे


You may also like

Health Care : रात के खाने में इन चीज़ो को बिलकुल भी ना करे शामिल
OMG ये है दुनिया के कुछ ऐसे देश जहां कभी नहीं होती रात