कई सालों से चले आ रहे विवाद का आज अंत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या विवाद पर आज अनोखा फैसला सुनाया है। पांच जजों की पीठ ने विवादित ढांचे पर राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया कोर्ट ने केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार को राम मंदिर बनाने के लिए निर्देश दिए हैं।

सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार तीन महीने में सोमनाथ मंदिर की तर्ज पर शीघ्र ही ट्रस्ट बनाने के निर्देश दिए हैं। कोर्ट ने यह भी कहा है कि 2.77 एकड़ की जमीन केंद्र सरकार के अधीन रहेगी। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने एक और अनोखा फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष को नई मस्जिद बनाने के लिए अलग से 5 एकड़ जमीन देने का भी निर्देश दिया है।

अयोध्या मामले के याचिकाकर्ता इकबाल अंसारी ने फैसले पर ख़ुशी जताई है। उन्होंने कहा कि मैं सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश हूँ। आखिरकार फैसला आ गया मैं सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करता हूँ।

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा है कि हम फैसले का सम्मान करते हैं लेकिन हम इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं। हम आगे की कार्रवाई पर जल्द ही फैसला लेंगे।

loading...

  • TAGS

You may also like

भारत में लॉन्च हुए दो नए सैमसंग टीवी, जानिए कीमत
पीएम मोदी के इस जैकेट को पहनते ही लोगो के बीच शुरू हुई चर्चा