रामानंद सागर की रामायण तीन दशक पहले टीवी पर प्रसारित हुई थी। इसके साथ ही, कम संसाधनों और छोटे बजट के बावजूद, धारावाहिक ने दर्शकों के लिए इतनी भव्य प्रस्तुति दी कि हर कोई देखता रह गया। उसी समय, धारावाहिक में अभिनेताओं के अभिनय को पसंद किया गया था, लेकिन वीएफएक्स चर्चा का विषय भी बन गया। वहीं, प्रेम सागर ने रामायण की शूटिंग से जुड़ी कुछ ऐसी बातें बताई हैं, जिन्हें सुनकर आप भी समझ जाएंगे कि इस तरह का सीरियल बनाना उन दिनों एक बड़ी चुनौती थी। वहीं, प्रेम सागर का कहना है कि शो में कई वीएफएक्स थे जिनमें तकनीक कम थी और रचनात्मकता अधिक थी। उसी समय, वे कहते हैं - अगर सुबह की शूटिंग होती थी, तो हम अगरबत्ती के धुएं के माध्यम से कोहरा दिखाते थे। उसी समय, यदि शूटिंग रात में की जाती थी, तो कपास के माध्यम से बादल बनाए जाते थे। इसके साथ, प्रेम कहता है- हम रात के शूट के दौरान कई बार ग्लास पर कॉटन लगाते थे। तब वह कैमरे में फिट शूटिंग करते थे। इसी समय, स्लाइड प्रोजेक्टर में ऐसी कई स्लाइड्स का उपयोग किया गया, फिर ऐसे प्रभाव देखे गए।

हालांकि रामायण में कई दृश्य यादगार हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी थे, जिनकी कहानियां खौफनाक थीं। ऐसा ही एक दृश्य था जहाँ भगवान शिव ने हिमालय पर नृत्य किया था। प्रेम सागर इस बारे में बताते हैं - हमने उस दृश्य की शूटिंग के लिए पृष्ठभूमि में एक स्क्रीन का इस्तेमाल किया। फिर प्रोजेक्टर के माध्यम से छोटे ग्रहों की तस्वीरें दिखाई गईं। साथ ही रामायण में युद्ध के दृश्य भी बहुत आकर्षक थे। उन तीरों को एक-दूसरे से टकराते हुए, बादलों की गड़गड़ाहट, सभी प्रभाव दर्शकों के दिमाग में अभी भी ताजा हैं। उस समय, उन दृश्यों को शूट करने के लिए SEG 2000 का उपयोग किया गया था। उसी समय, वह उस समय बाजार में नई आई थी और बहुत से लोग उसके बारे में नहीं जानते थे।



आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि प्रेम सागर के अनुसार, विशेष प्रभावों के लिए कांच की चटाई का भी उपयोग किया जाता था। आपको बता दें कि रामायण की शूटिंग के दौरान हर कलाकार ने दिन-रात एक किया। रामानंद सागर खुद भी एक दृश्य की पटकथा सुबह 3 बजे तक कई बार लिख पाए थे। लेकिन जैसे ही वह पटकथा पूरी हो जाती, दृश्य की शूटिंग शुरू हो जाती। उसी समय, जो भी हो, समय पर एपिसोड को प्रसारित करना बहुत महत्वपूर्ण था। वही प्रक्रिया शुरू से अंत तक जारी रही और लगभग 100 कलाकारों ने इस कठिन दिनचर्या का पालन किया। वहीं, जब देश में तालाबंदी चल रही है, तब रामायण को लेकर काफी चर्चा हो रही है। शो की रिकॉर्ड तोड़ टीआरपी बताती है कि शो पुराना होना चाहिए, लेकिन अगर कंटेंट अच्छा हो और अभिनय बेजोड़ हो, तो दर्शकों का दिल जरूर जीता जा सकता है।

loading...

You may also like

दीपिका पादुकोण संग 'छपाक' के काम कर चुकी एसिड अटैक सरवाइवर के पिता को कैंसर, इलाज के नहीं हैं पैसे
OMG! इतने करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं अनुपम खेर, जानकर होगी हैरानी