इंटरनेट डेस्क हमारी हिंदू संस्कृति मे सोने के आभूषणों को पहनना एक खास रिवाज है जिसें महिलाए किसी शुभ खास अवसरों पर पहना करती है। सोने के खूबसूरत आभूषण महिलाओं के सोलह श्रृंगारों में शामिल किए गए है। जिसे महिलाए गले से हाथों में महिलाएं पहना करती है। सदियों से महिलाओं को सोने के आभूषण पहनने का एक खास रिवाज रहा है। जो एक सुहागन महिला की खूबसूरती में चार चांद लगाता है। लेकिन अगर इस आभूषण को पैरों में पहनने की बात हो तो सोने के पायल और बिछुए को महिलाए कभी पैरों में नही पहना करती है।

दरअसल ऐसा माना जाता है कि किसी भी शुभ मानी जाने वाली चीज को पैरों में नहीं रखना चाहिए। दरअसल सोना हमेशा से ही शुभ अवसरो पर खरीदा जाता है इसे लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है इसलिए इसे पैरों में पहनकर इसका अपमान होता है।

इस वजह से महिलाए सोने को पैरों में नही पहना करती है।

You may also like

शनिवार के दिन ना करें इन 5 सामानों की खरीदारी वरना हो सकता है अनर्थ
इन आभूषणों से मिलता है राजस्थानी महिलाओं को रजवाड़ा लुक