इंटरनेट डेस्क हमारी हिंदू संस्कृति में नवरात्र पूजा का एक विशेष महत्व रहा है जब हम मां भगवती के नौ रुपों की अराधना करते है नौ दिनों तक मां को अलग-अलग रुपों में पूजा जाता है वैसे तो साल में कुल चार बार नवरात्र होते हैं जिसमें दो चैत्र एवं शारदीय नवरात्र और दो गुप्त नवरात्र होते है गुप्त नवरात्रों में जो भक्त मां की अराधना करता है उसको पुण्यों कर्मो के फलों की प्राप्ति होती है।

चैत्र और आश्विन मास के नवरात्र के बारे में तो आप सभी जानते ही हैं जिन्हें वासंती और शारदीय नवरात्र भी कहा जाता है लेकिन गुप्त नवरात्र आषाढ़ और माघ मास के शुक्ल पक्ष में मनाये जाते हैं। गुप्त नवरात्र में कई तरह की पूजा पाठों का एक अलग ही विधान है वही इस नवरात्रों में किए गए टोटको को करने से भी आपको मनचाहे फलों की प्राप्ति होती है साथ आपकी हर मनोकामना भी पूर्ण होती है।

जानिए गुप्त नवरात्र में आप किस तरह के उपायों को करके मां की कृपा को पा सकते है और अपनी तमाम परेशानियों को दूर कर सकते है....

हर व्यक्ति संसार में सभी सुखों को प्राप्ति को भोगना चाहता है इसके लिए वह परिश्रम तो करता है साथ अगर इन उपायों को करेगा तो आपको अपने मनचाहे फल की प्राप्ति होगी।

नवरात्र के दिनों में झाडू की दो सीकों को उल्टा सीधा रखकर नीले धागें से बांधकर घर के नैत्रत्य कोण में रखने से पति पत्नी के मध्य प्यार, परिवार के सदस्यों में सहयोग बढ़ता है।

अगर आप अपने वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाना चाहते है तो लाल या काले गूंजा के पांच दाने लेकर एक मिट्टी के बर्तन अथवा मिट्टी के दिए में शहद भरकर उसमें डबोकर सुरक्षित रख देवें जो भी उपाय आप कर रहे है उस दौरान अपने जीवन साथी का नाम लेते है ऐसा करने से आपके जीवन में किसी तरह का कोई कलह नही बढता है तथा आपका जीवन सुखमय बना रहता है।

नवरात्र में शनिवार को सूर्योदय के पहले पीपल के ग्यारह पत्ते लेकर उन पर राम नाम लिखकर पत्तो की माला बनाकर उसे हनुमानजी के पहना देवें इससे आपके कारोबार में आ रही परेशानियां दूर होगी लेकिन इस उपाय को आप एकदम चुपचाप करें।

नवरात्र में सोमवार और शनिवार के दिन शिवलिंग पर काले तिल और जल चढाए इस उपाय को करने से आपको बीमारियों से मुक्स बने रहेगे

You may also like

 गणेश चतुर्थी  : बाजार से मूर्ती खरीदते समय जरूर रखें इन बातों का ध्यान
शिव की पवित्र रुद्राक्ष माला पहनने से पहले रखें इन बातों का ख्याल