हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले लोग रामायण को महान ग्रंथ मानते है। रामायण में राम सीता और लक्ष्मण के अलावा हनुमान जी का भी नाम आता है , जिन्हें अष्ट सिद्धि प्राप्त है। त्रेतायुग में हनुमान जी ने भगवान राम के बहुत सहायता की थी और आज भी बहुत से लोगों का मानना है कि हनुमान जी आज भी अमर है। हम आपको हनुमान जी के अस्तित्व के पक्के सबूतों के बारे में बहुत पुरानी बातें बताने जा रहे हैं तो आईये जानते है।

Third party image reference

महाराष्ट्र के नासिक में स्थित 12 ज्योतिर्लिंग में से एक है त्रियंबकेश्वर मंदिर के बारे में आप सभी ने सुना होगा। आपको बता दें कि इस मंदिर से 6 किलोमीटर दूर एक छोटा सा गांव अजनेरी है जो कि हनुमान जी की माता अंजनी के नाम पर रखा गया है। अगर हम पौराणिक कथाओं की मानें तो हनुमान का जन्म स्थान यही है।

Third party image reference

इस गांव की पहाड़ी चढ़ने के बाद आपको तालाब मिलेगा जो 12 महीने पानी से भरा रहता है , जिसका आकार पैर की तरह है। कुछ मान्यताओं के अनुसार अंजनेरी एक ऐसी जगह है जहां से हनुमान जी ने छलांग मारकर सूरज को निगल लिया था। यह तालाब हनुमान जी के बाएं पैर का निशान है।

Third party image reference

इसी तालाब के पास एक गुफा जहां अंजनी माता ने हनुमान जी को जन्म दिया था और वहां आज भी अंजनी माता का मंदिर स्थित है । यहबात ब्रह्मा पुराना विष्णु पुराण में भी लिखी हुई। है।

Third party image reference

दोस्तो हमे उम्मीद है यह आपको जरूर पसंद आई होगी तो इसे आप लाइक ओर शेयर जरूर करे साथ जी कमेंट बॉक्स पे अपने कमेंट जरूर बताएं, धन्यवाद।

loading...

loading...

You may also like

पूजा-पाठ  में विशेष महत्व रखता है हिंदू धर्म में कलश रखना
देव उथानी एकादशी पर यह कथा अवश्य पढ़ें