इंटरनेट डेस्क : सावन का पवित्र माह इस वर्ष 17 जुलाई से शुरु होने वाला सावन के इस पवित्र माह में भगवान भोले को प्रसन्न के लिए कई चीजों का अर्पण भोले के समक्ष किया जाता है ताकि भोले की कृपा भक्त पर हमेशा बनी रहे। शिव पूजा का सबसे पवित्र दिन सावन के सोमवार माने गए है भगवान भोले को प्रसन्न के लिए भक्त कई चीजों को अर्पण भोले के समक्ष करता है तो शिव पूजा में भोले भंडारी को प्रसन्न के लिए इन विशेष फूलों को चढ़ाना भी बेहद शुभ होता है शिव पूजा में बहुत सी ऐसी चीजें होती है जो शिव भगवान को अर्पित की जाती है तो वही कुछ चीजें भगवान भोले को नही चढ़ाई जाती है ।

अगर आप सावन सोमवार में फल देने वाली पूजा करना चाहते है तो इन विशेष बातों का ख्याल रखना आपको बेहद जरुरी है...

हल्‍दी खानपान के इस्तेमाल में आने वाली चीज है लेकिन पूजा पाठ में भी हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन शिव की पूजा में हल्दी बिल्कुल भी नही चढ़ाई जाती है। शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है, इसी वजह से महादेव को हल्दी चढ़ाना शुभ नही माना जाता है ।

गुप्त नवरात्र में विशेष पूजा-पाठ से नौ देवियां होती है जल्द से जल्द प्रसन्न

Old Post Image

शिव की पूजा में भगवान शिव को कनेर और कमल के फूल या लाल रंग के फूल चढ़ाना भी बेहद शुभ होता है शिव को केतकी और केवड़े के फूल चढ़ाने का वर्जित माना गए है।

पूजा में लाल रोली को बेहद शुभ माना गया है लेकिन शिव जी को लाल रंग की रोली बिल्कुल भी नही चढ़ाई जाती है ।

भगवान शिव की पूजा में शंख का इस्तेमाल वर्जित माना गया है । दरअसल शंख भगवान विष्णु को बहुत ही प्रिय हैं लेकिन भगवान शिव ने शंखचूर नामक असुर का वध किया था इसलिए भगवान शिव की पूजा में इसे इस्तेमाल करना वर्जित माना गया है।

अक्सर पूजा पाठ में नारियल का इस्तेमाल करना अच्छा होता है लेकिन शिव पूजा में नारियल का चढाने के बाद उसे उपयोग में नही लिया जाता क्योंक‌ि नारियल को लक्ष्मी मां का स्वरूप माना जाता है इसल‌िए सभी शुभ कार्य में नारियल का प्रसाद के तौर पर ग्रहण किया जाता है लेक‌िन श‌िव पर अर्प‌ित होने के बाद नारियल पानी ग्रहण योग्य नहीं रहता है।

Old Post Image

घर आँगन में तुलसी का पौधा लगाना बेहद शुभ माना गया है लेकिन भगवान शिव को तुलसी बिल्कुल भी नही चढ़ाई जाती है इस संदर्भ में असुर राज जलंधर की कथा है ज‌िसकी पत्नी वृंदा तुलसी का पौधा बन गई थी श‌िव जी ने जलंधर का वध क‌िया था इसल‌िए वृंदा ने भगवान शिव की पूजा में तुलसी को इस्तेमाल नही करने की बात कही थी।

भगवान शिव की पूजा में जल, दूध, दही, शहद, घी, चीनी, ईत्र, चंदन, केसर, भांग इन सभी चीजों को एक साथ मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाएगें तो आपकी हर मनोकामना जल्द से जल्द पूरी होगी ।

भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा में जानिए इन तीन विशेष रथों का महत्व

loading...

You may also like

गणेश चतुर्थी  पर भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करने के साथ इस वजह से बोला जाता है मोरया
पूजा-पाठ  में विशेष महत्व रखता है हिंदू धर्म में कलश रखना