इंटरनेट डेस्क : मकर संक्रांति का पर्व नजदीक ही है इस त्योहार पर जहां पतंगबाजी का खास माहौल देखा जाता है तो वही पंतगबाजी के साथ दान-पुण्य का भी विशेष महत्व है खासकर की तिल के दान तिल के बने कई तरह व्यंजन और तिल का दान मकर संक्रांति पर किया जाता है इस वर्ष मकर संक्रांति 14 जनवरी को नही 15 जनवरी को और दान पुण्य भी इस बार 15 जनवरी को होगा । हमारी हिंदू संस्कृति मे मान्यता है की अगर मकर संक्रांति पर तिल के बने व्यंजनों को दान करने और खाने मे किया जाए तो काफी फलदायी होगा तो वही मकर संक्रांति पर आप तिल के पानी का नहाने मे इस्तेमाल करतें है तो आपके लिए लाभकारी होगा।

मकर संक्रांति पर सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है इसीलिए मकर संक्रांति का पर्व बेहद खास और उत्तम हमारी संस्कृति मे माना गया है। लेकिन क्या आपको पता है की मकर संक्रांति पर आखिर तिल का दान ही क्यों किया जाता है।

तिल के दान को लेकर एक पौराणिक मान्यता छिपी हुई है...

दरअसल तिल के दान को लेकर एक पौराणिक कथा है की शनि देव को उनके पिता सूर्य देव पसंद नहीं करते थे इसी कारण सूर्य देव ने शनि देव और उनकी मां छाया को अपने से अलग कर दिया इस बात से क्रोध में आकर शनि और उनकी मां ने सूर्य देव को कुष्ठ रोग से श्रापित होने का श्रॉप दें डाला।

अगर आप भी इस मंकर संक्राति कर रहें है दान तो जरुर पढ़ें ये खबर

Old Post Image

पिता को कुष्ठ रोग में पीड़ित देख यमराज जो कि सूर्य भगवान की दूसरी पत्नी संज्ञा के पुत्र कहलाते है इस रोग से मुक्ति दिलाने के लिए तपस्या की और वह इस रोग से मुक्त भी हो गए । सूर्य देव ने क्रोध में आकर शनि देव और उनकी माता के घर 'कुंभ' (शनि देव की राशि) को जला दिया इससे दोनों को बहुत कष्ट हुआ। यमराज ने अपनी सौतेली माता और भाई शनि को कष्ट में देख उनके कल्याण के लिए पिता सूर्य को समझाया यमराज की बात मान सूर्य देव शनि से मिलने उनके घर पहुंचे कुंभ में आग लगाने के बाद वहां सब कुछ जल गया था, सिवाय काले तिल के इसीलिए शनि देव ने अपने पिता सूर्य देव की पूजा काले तिल से की इसके बाद सूर्य देव ने शनि को उनका दूसरा घर 'मकर' मिला तभी से इस त्योहार मे तिल की एक विशेष मान्यता है ।

Old Post Image

शनि देव को तिल की वजह से ही उनके पिता, घर और सुख की प्राप्ति हुई, तभी से मकर संक्रांति पर सूर्य देव की पूजा के साथ तिल का महत्व करना भी बेहद अच्छा होता जो आपके जीवन की तमाम परेशानियों को दूर करता है। इसी धार्मिक मान्यता की वजह से ही मकर संक्रांति पर तिल का दान और सूर्य देव को तिल चढ़ाया जाता है।

वार के अनुसार लगाएं माथे पर तिलक, मिलेगी तरक्की

You may also like

करवा चौथ स्पेशल:- 67 प्रतिशत महिलाएं मानती है कि करवाचौथ है प्यार जाहिर करने का एक बेस्ट तरीका! 
Christmas Celebration 2018:  जानिए क्रिसमस सेलिब्रेशन मे क्यों सजाया जाता है 'क्रिसमस ट्री '