इंटरनेट डेस्क : चैत्र नवरात्र का आंठवा दिन महागौरी को खुश करने का दिन होता है नवरात्र के आंठवे दिन अगर आप पूरें विधि-विधान से महागौरी की पूजा करते है तो आपकी हर मनोकामना पूरी होती है महागौरी दुर्गा मां का आंठवा स्वरुप है महागौरी की उपासना करने से घर में धन-सम्पत्ति में वृद्धि होती है और व्यक्ति के अंदर असंभव को संभव बनाने की शक्ति उत्पन्न होती है। अतः इन सब चीज़ों की प्राप्ति के लिये देवी मां की उपासना करें।

अष्टमी के दिन मां की पूजा के साथ ही कुंवारी छोटी कन्याओ और ब्राह्मणों को भोजन कराना लाभकारी होता है ।

आइए जाने कैसा होता है महागौरी का स्वरुप...

चैत्र नवरात्र में पहने इन शुभ रंगों के वस्त्र, मां दुर्गा होगी प्रसन्न

Old Post Image

हिंदू शास्त्रों में महागौरी के स्वरुप की बात करें तो इनके हाथ में दुर्गा शक्ति का प्रतीक त्रिशूल है तो दूसरे हाथ में भगवान शिव का प्रतीक डमरू अपने सांसारिक रूप में महागौरी उज्ज्वल, कोमल, श्वेत वर्णी तथा श्वेत वस्त्रधारी और चतुर्भुजा वाली हैं। इनके एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे में डमरू है तो तीसरा हाथ वरमुद्रा में हैं और चौथा हाथ एक गृहस्थ महिला की शक्ति को दर्शाता है। महागौरी को गायन और संगीत बहुत पसंद है। ये सफेद वृषभ यानी बैल पर सवार रहती है। इनके समस्त आभूषण भी श्वेत होते हैं। महागौरी की पूजा करने से आपको हर पाप से मुक्ति मिलती है।

अष्टमी की पूजा आप आप इस तरह से करें ...

Old Post Image

महागौरी की पूजा में सुहागन महिलाएं देवी मां को चुनरी भेंट करें सबसे पहले लकड़ी की चौकी पर या मंदिर में महागौरी की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें इसके बाद चौकी पर सफेद वस्त्र बिछाकर उस पर महागौरी यंत्र रखें और यंत्र की स्थापना करें। मां सौंदर्य प्रदान करने वाली देवी हैं। हाथ में श्वेत पुष्प लेकर मां का ध्यान करें। वही अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना भी लाभकारी होता है आप इस दिन छोटी आयु वाली कन्याएँ को भोजन करवाएं और उनके पैर छूकर दक्षिणा भी देंवे ऐसा करने से महागौरी की कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी। और आपके जीवन के सभी कष्ट दूर होंगे।

चैत्र नवरात्र में भूलवश भी ना करें ये काम वरना मां दुर्गा होगी रुष्ठ

loading...

You may also like

बुधवार के दिन से जुड़ी ये खास मान्यता इन उपायों को करने से होंगे सारे काम सिध्द
हमारी संस्कृति की प्राचीन परम्परा मे उचित है सूर्यास्त के पहले भोजन कर लेना