इंटरनेट डेस्क : हमारी हिंदु संस्कृति में हर त्योहार अपना एक अलग ही महत्व ऐसा ही कुछ जल्द ही आने वाली होली के त्योहार को लेकर भी है बुराई पर अच्‍छाई की जीत का त्‍योहार होली इस वर्ष 20 और 21 मार्च है। 20 मार्च, को जहां होलिका दहन होगा तो वही 21 मार्च को रंगो से खेली जानी वाली होली होगी । परंपरा अनुसार होलिका फाल्‍गुन मास की पूर्णिमा के दिन जलाई जाती है और अगले दिन अबीर-गुलाल से होली खेलने की परंपरा होती है। इस खास त्योहार पर दुश्मन को भी प्यार से गले लगाया जाता है।

जानिए इस वर्ष रहने वाली होली का शुभ मुहूर्त...

पंचांग के अनुसार इस बार होलिका दहन के दिन भद्रा दशा होने से होलिका दहन का शुभ मुहूर्त रात 9:01 मिनट से मध्यरात्रि 12:20 मिनट तक रहेगा। पूर्णिमा तिथि का आरंभ 20 मार्च को सुबह 10 बजकर 44 मिनट पर होगा। पूर्णिमा तिथि अगले दिन यानी 21 मार्च को 7 बजकर 10 मिनट तक रहेगी।

Old Post Image

इस वर्ष आप इस तरह से होली का पूजन करें...

जिस जगह पर होलिका दहन किया जाता है वहां होलिका पर हल्‍दी से टीका लगाएं। इससे घर में समृद्धि आती है। होलिका दहन वाली जगह पर अबीर गुलाल से रंगोली बनाएं और उसमें पांच फल, अन्‍न और मिठाई चढ़ाएं। होलिका के चारों ओर 7 बार परिक्रमा करके जल अर्पित करें।

हमारी हिंदु संस्कृति में मुहुर्त अनुसार होलिका का दहन किया जाता है जब होली को दहन किया जाता तो उसमें से प्रहलाद को निकाल लिया जाता है इस होली की राख को महत्वपूर्ण माना जाता है जिसे हम जलने के बाद घर लेकर आकर उसकी पूजा करतें है दरअसल होली की आग में गेहूं की नई बाली और हरे गन्‍ने को भूनना बहुत ही शुभ माना जाता है। ताकि घर में सुख समृध्दि और शांति बनी रहे।

शास्त्रों में बताया गया है इन विशेष फूलों का महत्व, जिन्हें दिन के अनुसार साथ रखने से होगी हर मनोकामना पूरी

loading...

loading...

You may also like

 भगवान गणेश की पूजा में इस वजह से शामिल नही की जाती तुलसी
डोल ग्यारस पर करें ये खास उपाय, बंद पड़ी किस्मत खुल जाएगी जल्द