इंटरनेट डेस्क : हमारे हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का विशेष महत्व है ऐसा ही कुछ सनातन धर्म में गंगा दशहरा के महत्व को लेकर भी है जिसे हम गंगा दशमी के रुप में मनाते है धार्मिक परंपराओं और मान्‍यताओं वाले त्‍योहार के रूप में है प्रत्‍येक वर्ष ज्‍येष्‍ठ मास के शुक्‍ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा मनाने की परंपरा चली आ रही है। इस साल यह पर्व 12 जून यानी आज है। गंगा दशहरा के दिन ही मां गंगा का धरती पर अवतरण हुआ था और तभी से मां गंगा को पूजने की परंपरा शुरू हुई हिंदू धर्म में मान्यता है की इस दिन गंगा में स्नान करने से सारे पाप धुल जाते है और आपको हर तरह के पाप से मुक्ति मिलती है।

आइए जानें गंगा दशमी से जुड़ी इन महत्वपूर्ण बातों के बारे में जिसके बारे में शायद आपको पता ना हो...

गंगा दशहरा पर स्नान का विशेष महत्व है। इस दिन गंगा जी में डुबकी लगाने से मनुष्य के जीवन के सभी पाप धूल जाते हैं और वह पाप रहित हो जाता है। इसके अलावा गंगा दशहरा के दिन कोई रोगी गंगा नदी में स्नान कर लेता है तो उसे हर तरह के रोगों से मुक्ति मिलती है। गंगा दशमी के दिन दान-पुण्य का भी विशेष महत्व है अगर आप इस दिन पूरें मन से श्रध्दापूर्वक दान करते है तो आपको शुभ फलों की प्राप्ति होती है और आपका घर धन धान्य से परिपूर्ण रहता है आप जिस भी चीज का दान कर रहें और उसकी संख्या 10 होनी चाहिए जिस वस्तु की पूजा की जाती है। उसकी संख्या भी दस होनी चाहिए ऐसा करना बेहद शुभ होता है।

जानिए शनि जयंती पर शनि देव की विशेष पूजा का महत्व, इन उपा

Old Post Image

इस दिन को लेकर ये पौराणिक कथा प्रचलित है हिंदु मान्यता के अनुसार गंगा दशहरा के दिन गंगा का अतवार हुआ था यानी इसी दिन गंगा नदी का धरती पर जन्म हुआ गंगा दशहरा को लेकर एक प्रचलित कथा है की ऋषि भागीरथ को अपने पूर्वजों की अस्थियों के विसर्जन के लिए बहते हुए निर्मल जल की आवश्यकता थी इसके लिए उन्होंने मां गंगा की कठोर तपस्या की, जिससे मां गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुईं

Old Post Image

लेकिन गंगा के तेज बहाव के कारण वह अस्थियां विसर्जित नहीं कर पाए तब मां गंगा ने कहा कि यदि भगवान शिव उन्हें अपनी जटाओं में समा कर पृथ्वी पर मेरी धारा प्रवाह कर दें, तो यह संभव हो सकता है ऋषि भागीरथ ने अब भगवान शिव की तपस्या कर गंगा की धारा जटाओं में समाहित करने का आग्रह किया इसके बाद शिव ने गंगा की एक छोटी सी धारा को पृथ्वी की ओर प्रवाहित कर दिया तब जाकर भागीरत अपने पूर्वजों की अस्थियों को विसर्जित कर पाए और इस तरह गंगा का धरती पर अवतरित और इस शुभ दिन को मनाने की परम्परा शुरु हुई जो हमारे हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व रखती है।

हिन्दू धर्म में इस विशेष वजह से महत्व रखता है स्त्री का मंगलसूत्र

loading...

You may also like

जानिए जीवन में कौनसे शुभ संकेत देती है हरी दौब
हर दिन शुभ बनाने के लिए करें शास्त्रों में बताए गए है ये  खास काम