इंटरनेट डेस्क : सावन का महीना चल रहा और सावन महीनें में हरियाली तीज का पर्व भी नजदीक है जो सुहागन महिलाओं के जीवन में एक विशेष महत्व रखता है श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को श्रावणी तीज कहा जाता है जिसकी रौनक राजस्थान में जोरों से देखने को मिल रही खासकर की गुलाबी शहर जयपुर पिंक सिटी में सुहागन महिलाओं के जीवन में तीज का त्योहार विशेष महत्व रखता है ।



क्या आप जानते है की तीज का त्योहार हिंदू धर्म में किस तरह से विशेष महत्व रखता है ...

Old Post Image

इस वजह से सुहागन महिलाओं के जीवन में विशेष महत्व र

धार्मिक मान्यता के अनुसार माता पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए काफी तप किया और उपवास भी परिणामस्वरूप भगवान शिव ने उनके तप से प्रसन्न होकर उन्हें पत्नी रूप में स्वीकार किया माना जाता है कि श्रावण शुक्ल तृतीया के दिन माता पार्वती ने सौ वर्षों के तप उपरान्त भगवान शिव को पति रूप में पाया था। इसी मान्यता के अनुसार स्त्रियां माता पार्वती का पूजन तीज के खास दिन किया करती है सुहागन महिलाएं पूरें साज श्रृंगार इस दिन करती है

तीज पर मेहंदी लगाने, चूड़यिां पहनने, झूले झूलने तथा लोक गीत गाए जाते है वही तीज पर मेले भी लगते है जिसे महिलाएं झूलना बेहद शुभ मानती है।

Old Post Image

तीज का त्यौहार भारत के कोने-कोने में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। यह त्यौहार भारत के उत्तरी क्षेत्र में हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। सावन का आगमन ही इस त्यौहार के आने की आहट को बताता है जिससे इस प्रकृति का भी अदभुत श्रृंगार हरियाली से होता है

इसी खास मान्यता ही वजह से हिंदू धर्म में तीज का त्योहार मनाने की परम्परा सदियों से चली आ रही है।

तीज और रक्षाबंधन पर हाथों की खूबसूरती बढाएगी ये लेटेस्ट डिजाइन वाली मेहंदी

loading...

loading...

You may also like

यहां आज भी जीवित है हनुमान! खाते हैं भक्तों द्वारा चढ़ाया प्रसाद
गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की ऐसी मूर्ति घर में लाना होगा शुभ