हिन्दू धर्म में सप्ताह के सात दिनों का बेहद महत्व होता है। भगवान के प्रति अटूट आस्था हर दिन भक्तों में देखने को मिलती है। इसी तरह रविवार के दिन भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए भक्त विशेष पूजा अर्चना करते है। जिससे उनकी मनोकामना पूर्ण हो सके। हिंदू शास्त्र में सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए जल चढ़ाना बेहद शुभ माना गया है। इससे व्यक्ति के भाग्योदय होने से कोई नहीं रोक सकता है।

Old Post Image

जरूरी नहीं है कि आप नियमित दिन ही सूर्य को जल चढ़ाए उचित फल की प्राप्ति के लिए आप रविवार का दिन भी चुन सकते है। ये दिन सूर्य भगवान को बेहद प्रिय है, इसे सूर्यवार भी माना गया है। इस दिन सूर्य को जल चढ़ा रहे है तो पूर्व दिशा में ही सूर्य को जल चढ़ाना बेहद शुभ माना गया है।

Old Post Image


इससे कुंडली के कई दोष दूर होते है। जिन लोगों की कुंडली में अगर सूर्य कमजोर चल रहा है या अन्य किसी ग्रह की प्रतिकूलता चल रही हों, या सरकारी कामकाज किसी तरह से अटका हुआ हों या व्यापार में किसी तरह की समस्या हों तो वह व्यक्ति यदि प्रतिदिन सूर्य को जल चढ़ाए तो उन्हे उचित फल की प्राप्ति होती है। तांबे के लौटे का उपयोग करना शुभ माना गया है।

Old Post Image


सूर्य को अध्र्य देते समय पानी की जो धारा जमीन पर गिरती है, उस धारा से सूर्य भगवान को देखना चाहिए। इस दिन सूर्यदेव की पूजा के लिए विशेष महत्व होता है। इस दिन भगवान सूर्य की पूजा करने से परेशानी से मुक्ति मिलती है। इस दिन किस तरह का भोजन खाने और खिलाने से व्यक्ति को नाम, राज्य और यश की प्राप्ति होने लगती है।


इस दिन गुड़ और गेहूं से बनी रोटी भगवान विष्णु को अर्पित करके आप ब्राह्मणों को दान करें। उसके बाद इसे प्रसाद के रुप में ग्रहण करना चाहिए। जिससे सौभाग्य की प्राप्ति होगी। इस दिन बेसन के लड्डू या बर्फ ी लेकर सूर्यदेव को भोग लगाना चाहिए।

You may also like

गणेश चतुर्थी: इन चीजों के बिना अधूरी मानी जाती है भगवान गणेश की पू्जा
विवाहित स्त्री भूलकर पर सहेली से शेयर न करें पति की ये निशानियां