कल्चर न्यूज:- दोस्तों दिवाली के पंसद आने के पीछे एक और राज ये है कि सभी को ये त्योहार इसलिए भी पंसद आता है क्योकि इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा के साथ साथ तैयार होने और पटाखे छुड़ाने का भी खास मौका होता है जो कि सभी को बेहद पंसद आता है। लेकिन पटाखा लवर्स के लिए इस बार एक बूरा समाचार है वो है दिवाली पर सिर्फ दो घंटे के लिए रात 8 से 10 बजे तक पटाखे जलाए जा सकेंगे। इसके साथ कोर्ट ने यह भी आदेश दिया है कि त्योहारों में कम प्रदूषण वाले 'ग्रीन पटाखे' ही जलाए और साथ ही दुकानदारों के लिए ये आदेश है कि ये ही बेचे जाने चाहिए।



सुप्रीम कोर्ट ने जिन 'ग्रीन पटाखों' की बात की है क्या वो नॉर्मल पटाखों से अलग होते है! दरअसल 'ग्रीन पटाखे' राष्ट्रीय पर्यावरण अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (नीरी) की खोज हैं जो पारंपरिक पटाखों जैसे ही होते हैं पर इनके जलने से कम प्रदूषण होता है।


ग्रीन पटाखे दिखने, जलाने और आवाज में सामान्य पटाखों की तरह ही होते हैं, लेकिन इनसे प्रदूषण कम होता है।


इसी के साथ इन पटाखों को जलाने पर एक और खास बात है वो ये है कि इन्हें जलाने पर इनमें से खुशबू आती है। न सिर्फ इनसे हानिकारण गैस पैदा होगी बल्कि ये बेहतर खुशबू भी बिखेरेंगे।


इस बार आपके लिए दिवाली का ये खास गिफ्ट है कि आप नॉर्मल पटाखों की बजाय इन पटाखों को जलाकर घर में खुशबू ला सकते है और हानिकारक प्रदुषण से भी बच सकते है।

You may also like

आज इन राशियों पर हो सकती है मां दुर्गा कृपा, बस करना होगा ये काम!
हर शुक्रवार की शाम करें ये काम, घर में होगी धन की वर्षा