इंटरनेट डेस्क : हमारे हिंदू धर्म में पूजा-पाठ के दौरान शंख बजाने का विशेष महत्व अक्सर कई लोग सुबह वह शाम की पूजा में शंख बजाया करते है ऐसा करना अत्यन्त शुभकारी होता है शंख से निकलने वाली ध्वनि पूरें वातावरण को शुद्द करती है और वातावरण में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा और हानिकारक जीवाणु एवं विषाणुओं का नाश करती है और इससे आपकी सेहत को भी बेहतरीन लाभ होता है।

शास्त्रों में माना जाता है कि समुद्र मंथन के समय निकलने वाले चौदह रत्नों में से एक रत्न शंख है धार्मिक तथा स्वास्थ्य की दृष्टि से शंख बहु उपयोगी है। शंख बजाने से कुंभक, रेचक तथा प्राणायाम क्रियाएं एक साथ होती हैं, इसलिए सेहत के लिए भी उत्तम होता है ।

अगर आप रात के समय शंख में गंगाजल भरकर उसका सेवन करेंगे तो आपके शरीर में कैल्शियम तत्वों की पूर्ति होगी।

Old Post Image

और आप छोटी-मोटी बीमारियो से कोसो दूर रहेंगे। आयुर्वेद के मतानुसार शंख के औषधीय प्रयोग से हार्ट अटैक, ब्लड प्रेशर, अस्थमा, मंदाग्नि, मस्तिष्क और स्नायु तंत्र से जुड़ें रोगों से आपको मुक्ति मिलती है आपके फेफड़ों में मजबूती बनी रहती है। और आपके मुंह में ऑक्सजीन आसानी से होता है।

ज्योतिषशास्त्र की बात करें तो शंख आपके घर के खुशहाल जीवन के लिए भी लाभकारी है। कहा जाता है कि दक्षिणवर्ती शंख धन की देवी महालक्ष्मी जी का स्वरुप है। इसलिए धन लाभ और सुख-समृद्धि के लिए घर में उत्तर-पूर्व दिशा में अथवा घर के पूजा घर में रखना बेहद लाभकारी है प्रतिदिन शंख की धूप दीप दिखाकर पूजा करनी चाहिए। पितृ दोष के असर से बचने के लिए दक्षिणवर्ती शंख में पानी भरकर अमावस्या और शनिवार के दिन दक्षिण दिशा में मुख करते हुए तर्पण करने से पितृ प्रसन्न होते है और आपको शुभ आशीर्वाद भी मिलता है और पैसों से जुड़ी परेशानियां भी दूर होती है।

इन दो दिन ही हाथों से कलावा खोलना होता है शुभ

Old Post Image

आपकी कुंडली में मौजूद ग्रह दोष भी शांत होते है नवग्रहों की शांति एवं प्रसन्नता के लिए भी शंख उपयोगी रत्न माना गया है। सूर्य ग्रह की प्रसन्नता के लिए सूर्योदय के समय शंख से सूर्यदेव पर जल अर्पित करना बेहद लाभकारी है। वही चंद्रग्रह के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए आप शंख में गाय का कच्चा दूध भरकर सोमवार को भगवान् शिव पर अर्पित पर करें आपको बेहद उत्तम लाभ होगा ।

बुध ग्रह की प्रसन्नता के लिए शंख में जल और तुलसी दल लेकर शालिग्राम पर अर्पित करें वही गुरुग्रह को शांत करना चाहते है तो गुरुवार को दक्षिणवर्ती शंख पर केसर का तिलक लगाकर पूजा करने से भगवान् विष्णु की कृपा आप पर हमेशा बनी रहती है

शुक्र ग्रह के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए शंख को श्वेत वस्त्र में लपेटकर पूजा घर में रखना बेहद शुभकारी है।

Old Post Image

अगर आप घर में सुख शांति और समृध्दि बनाएं रखना चाहते है तो शंख में चावल भरकर लाल रंग के वस्त्र में लपेट कर उत्तर दिशा में रखें इससे आपके जीवन में कभी आर्थिक तंगी नही आएगी और आपका जीवन खुशियों से भरा रहेगा।

मंगलवार के दिन ऐसे करें हनुमान चालीसा का पाठ जल्द से जल्द होंगे मालामाल

loading...

You may also like

जानिए निर्जला एकादशी पर पूजा-पाठ की सही विधि यह उपाय करने भी है लाभकारी
इस खास वजह से लगाया जाता मांगलिक कामों में कुंकुम का तिलक