कल्चर न्यूज:- दीपावली आने वाली है और पांच दिन के त्योहार स्टार्ट होने वाले है। ये त्योहार धनतेरस से शुरू हो जाएगें, इसके बाद पांच दिन तक चलने वाला ये त्योहार भाई दूज को खत्म हो जाएगा। सबसे पहले धनतेरस, छोटी दिवाली, बड़ी दिवाली, गोवर्द्धन पूजा, भाई दूज तक का ये त्योहार कुछ ही दिनों में शुरू होने वाला है।


इस दिन आयुर्वेद के देवता भगवान धन्वंतरि का जन्म हुआ था, यही वजह है कि इस दिन माता लक्ष्मी, भगवान कुबेर और भगवान धन्वंतरि की पूजा का विधान है। भगवान धन्वंतरि के जन्मदिन को भारत सरकार का आयुर्वेद मंत्रालय 'राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस' के नाम से जाना जाता है। इसके अलावा धनतेरस के दिन मृत्यु के देवता यमराज की भी पूजा की जाती है। इसी के साथ इस दिन सोने-चांदी के आभूषण और बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है।


धनतेरस कब आती है?

धनतेरस का पर्व हर साल दीपावली से दो दिन पहले मनाया जाता है। हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से देखा जाए तो कार्तिक मास की तेरस यानी कि 13वें दिन धनतेरस मनाया जाता है।


धनतेरस की तिथि और शुभ मुहूर्त:-

त्रयोदशी तिथ िप्रारंभ: 05 नवंबर 2018 को सुबह 01 बजकर 24 मिनट से

त्रयोदशी तिथि समाप्त: 05 नवंबर 2018 को रात 11 बजकर 46 मिनट तक

धनतेरस पूजा मुहूर्त: 05 नवंबर 2018 को शाम 06 बजकर 20 मिनट से रात 08 बजकर 17 मिनट तक.

कुल अवधि: 01 घंटे 57 मिनट


धनतेरस के दिन क्या खरीदना चाहिए?

धनतेरस का दिन खरीददारी के लिए बेहद शुभ माना जाता है। इस दिन आमतौर पर लोग सोने-चांदी के आभूषण खरीदते हैं, लेकिन आप सोने या चांदी का सिक्का भी खरीद सकते हैं।

- इस दिन धातु के बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है.

- इस दिन व्यापारी नए बही-खाते खरीदते हैं, जिनकी पूजा दीपावली के मौके पर की जाती है।


इन चीजों के साथ साथ ये कहा जाता है कि इस दिन आप अपने घर या अपने लिए कुछ भी नया सामान खरिद सकते है साथ ही उसकी पूजा करके अपनी किस्मत को बदल सकते है।

You may also like

दिवाली 2018 स्पेशल:- ग्रीन पटाखो के साथ दिवाली को बनाए और भी ज्यादा खुशबूदार, जानें यहां!
नए साल के पहले शनिवार पर ना करें इन चीजों की खरीदारी, वरना शनिदेव हो जाएगे रुष्ट