इंटरनेट डेस्क:आगमी कुछ ही दिनों मे चैत्र नवरात्रि का पर्व आने वाला है ऐसे में हर भक्त माता की अराधना करता है। जैसा की आपको पता है नवरात्रि का पर्व साल में दो बार आता है। पहली नवरात्रि चैत्र की नवरात्रि होती है दूसरी शारदीय नवरात्रि होती है। इसके अलावा गुप्त नवरात्रि भी आते है जिसमे भक्त माता की अराधना करते है। और कई तरह के कठिन उपवासों को करते है।

चैत्र नवरात्र से नववर्ष के पंचांग की गणना शुरू होती है। नवरात्रि के नौ दिन मां के अलग-अलग स्वरुप की पूजा की जाती है। इस साल चैत्र नवरात्रि का पर्व 18 मार्च से शुरु हो रहा है। नवरात्र के पहले दिन घटस्थापना की जाती है। इसके बाद नवरात्र के नौ दिन मां के लिए उपवास रखा जाता है। दसवें दिन कन्या पूजन के पश्चात उपवास खोला जाता है। आषाढ़ और माघ मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले नवरात्रि गुप्त नवरात्रि कहलाते हैं।

लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस बार नवरात्रि का पर्व 8 दिन तक ही रहेगा।  18 मार्च से शुरु हो रहा नवरात्रि का पर्व 25 मार्च तक चलेगा। माता की अराधना घट स्थापना का शुभ मुहुर्त सुबह 6 बजें 31 मिनट से लेकर 7 बजकर 46 मिनट तक रहेगा जिसमें आप माता की अराधना कर सकते है।

इन खास बर्तनों मे करें भोजन, रहेंगे रोगों से मुक्त

पूजा-पाठ के दौरान घर मे दीपक जलाते समय ना करें ये गलतियां

गणगौर के त्यौहार पर आपके ट्रैडिशनल ड्रैसअप के साथ जंचेगे ये आकर्षक बोरला

 

You may also like

भगवान गणेश को इसलिए लगता है मोदक का भोग, जानिए
इस वजह से होती है भगवान गणेशजी की सबसे पहले पूजा, जानिए